नियमों में हुआ बदलाव, अब राशन कार्ड नंबर के बिना नहीं मिलेगी सम्मान निधि का पैसा

PM Kisan Yojana New Rule: बता दें कि सरकार द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि योजना में कुछ बदलाव किये गए है। योजना के तहत हो रहे फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने के लिए नियमों को बदला गया है। देश में बढ़ रहे भ्र्ष्टाचार को रोकने के लिए अब राशन कार्ड नंबर अनिवार्य कर दिया गया है। नागरिकों को अब राशन कार्ड नंबर के बगैर किसान सम्मान निधि योजना का पैसा नहीं मिल पायेगा। योजना के तहत अब केवल परिवार में पति या पत्नी में से किसी एक को ही योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा।

केंद्र सरकार द्वारा बदले गए नियमों के अनुसार अब रजिस्ट्रेशन के बाद कागजाद व घोषणा पत्र की हार्डकॉपी जमा करने के लिए किसानों को कृषि विभाग के ऑफिस चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं होगी। किसान द्वारा योजना हेतु पंजीकरण करते समय ही खतौनी, आधार व पासबुक की फोटो कॉपी भी ऑनलाइन अपलोड करनी होगी।

पंजीकरण करते समय राशन कार्ड नंबर अनिवार्य

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के इनचार्ज डिप्टी डायरेक्टर कृषि धीरेन्द्र सिंह चौधरी ने बताया कि 1 अक्टूबर को मंडलीय रवि उत्पादकता गोष्टी (डिविज़नल रवि प्रोडक्टिविटी सेमीनार) में भी जिलाधिकारी ने किसान सम्मान निधि योजना के पंजीकरण शुरू करने का प्रपोजल रखा था जिसमे एग्रीकल्चर प्रोडक्शन कमिश्नर ने भी सहमति जताई जिसके बाद पंजीकरण प्रकिया शुरू कर दी गयी। जो भी किसान योजना हेतु रजिस्ट्रेशन करवाएंगे उन्हें अब राशन कार्ड नंबर भी दर्ज करना जरुरी है तभी उन्हें पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिल सकेगा।

बरेली मंडल में 55243 अपात्र किसान भी ले रहे किसान सम्मान निधि योजना का लाभ

पूरे प्रदेश में 2,34,010 इनकम टैक्स भरने वाले, 32393 मृतक, 386250 गलत खाते वाले, 57987 अपात्र, 68540 इनवैलिड आधार धारक कुल मिलकर 779180 नागरिक योजना का लाभ प्राप्त कर रहे है और बरेली मंडल में कुल 55243 लोग गलत तरीके से किसान सम्मान निधि योजना का लाभ प्राप्त कर रहे है। बरेली जिले में सबसे ज्यादा 16707, बदायूं में 15743, पीलीभीत में 12817, शाहजहांपुर में 9976 किसान अपात्र होने का बाद भी योजना से मिलने वाली राशि प्राप्त कर रहे है। सरकार द्वारा इस मामले की छानबीन जारी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: